3 Comments

  1. 1

    काजल

    प्रणाम मैम, ‘शिक्षा जीवन है।’ आसपास सब कुछ नकारात्मक देखते हुए भी लगता है कि एक दिन परिवर्तन जरूर होगा, यदि दिनेश कर्नाटक और आप जैसे शिक्षक शिक्षा की गुणवत्ता को लेकर चिंतनशील है, क्योंकि शिक्षा मनुष्य के जीवन की दिशा और दशा दोनों तक करती है। शुक्रिया मैम, हमें बेहतर किताबों और लेखक से अवगत कराने के लिए। 🙏

    Reply
  2. 2

    विजया सती

    पहाड़ में वापसी के साथ ही नैनीताल समाचार से परिचय पुनर्जीवित हुआ.
    मेरे लेखन को प्रतिष्ठित प्रकाशन में स्थान मिला, प्रसन्न हूं.

    उम्मीद है कि यह सृजनात्मक संग साथ बना रहेगा.

    समस्त शुभकामनाओं के साथ गहन सघन आभार प्रिय संपादक !

    Reply
  3. 3

    विजया सती

    धन्यवाद काजल !
    ध्यान से पढ़कर विचार व्यक्त करने के लिए ..निश्चित ही शिक्षा जीवन की दशा और दिशा तय करती है.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All rights reserved www.nainitalsamachar.org